भारत के उत्तरी हिस्से को हमेशा से उसकी प्राकृतिक ख़ूबसूरती की वजह से पहचाना जाता रहा है. देश के इस हिस्से में एक से बढ़ कर एक ख़ूबसूरत पर्यटन स्थल हैं. इन जगहों की ख़ूबसूरती मानसून आने के बाद और भी ज़्यादा बढ़ जाती है. मॉनसून के महीने में यहां पर आने के बाद इंसान को ऐसा लगता है कि जैसे वो एकदम से प्रकृति की गोद में आ गया हो.

हम आज आपको उत्तर भारत के ऐसे ही 15 पर्यटन स्थलों के बारे में बताते हैं, जिनके बारे में जानने के बाद आप मॉनसून का मज़ा लेने के लिए वहां ज़रूर जाना चाहेंगे.

1. पहलगाम

7200 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित पहलगाम, जम्मू-कश्मीर का सबसे ख़ूबसूरत हिल स्टेशन है. पहलगाम, उत्तर भारत के उन बेहतरीन जगहों में से एक है, जहां पर जा कर मानसून का भरपूर लुत्फ़ उठाया जा सकता है.

मॉनसून के समय तापमान: 15-17 सेंटीग्रेड तक रहता है.

प्रमुख दर्शनीय स्थल: शेषनाग झील, बैसारन पहाड़ी, Kolahoi ग्लेशियर, Lidder Amusement पार्क

पहुंचने का साधन: श्रीनगर सबसे नज़दीकी हवाई रास्ता है,जहां से पहलगाम की दूरी 95 किमी है. जबकि सबसे 255 किमी की दूरी पर स्थित जम्मू सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है.

2. कौसानी

उत्तराखंड के बागेश्वर ज़िले में पड़ने वाला कौसानी, मानसून के दौरान पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केन्द्र रहता है.उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ावा देने में कौसानी का सबसे ज़्यादा योगदान है. कौसानी लोगों के बीच ‘भारत के स्विटज़रलैंड’ नाम से भी मशहूर है. यहां पर नन्दा देवी का मशहूर मंदिर देखने योग्य है.

मानसून के दौरान तापमान: औसतन 10-25 डिग्री सेन्टीग्रेड के बीच रहता है.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: गांधी आश्रम, रूद्रधारी फॉल्स और गुफा, चाय के बागान, अनास्कित आश्रम के अलावा यहां कई ऐसी जगहें हैं, जिन्हें देखा जा सकता है.

देखने और करने लायक चीज़ें: नन्दा देवी का सूर्योदय, आदि कैलाश और बागेश्वर से ले कर Sunderdhunga की यात्रा, Bird Watching.

पहुंचने का रास्ता: कौसानी से 177 किमी पर स्थित पंतनगर सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा है, जबकि रेल से जाने वाले के लिए काठगोदाम रेलवे स्टेशन सबसे नज़दीक है. जहां से कौसानी की दूरी 136 किमी है.

3. करजात

करजात, Weekend की छुट्टियां मनाने के लिए मशहूर है. ये उल्हास नदी के किनारे महाराष्ट्र में स्थित है. करजात यात्रा करने के लिए स्वर्ग के समान है. उल्हास नदी की घाटियां, वहां का वॉटरफॉल और रॉफ़्टिंग पर्यटकों को एक अनूठा एहसास कराती है.

मानसून के दौरान तापमान: औसतन 20-25 डिग्री सेंटीग्रेड.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Peth Fort, कोठालीगाड, चंदेरी गुफा, भीवपुरी जलप्रपात, इसके अलावा भी बहुत कुछ है.

देखने और करने लायक चीजें: कोंदाना गुफा देख सकते हैं, सीढ़ियों के सहारे भीमाशंकर की यात्रा, हाथ से बनी कलात्मक चीज़ों की खरीददारी.

पहुंचने का साधन: छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से करजात की दूरी 90 किमी है. रेल से जाने के लिए कहीं और जाने की ज़रूरत ही नहीं है, क्योंकि करजात ख़ुद एक रेलवे स्टेशन है.

4. चेरापूंजी

चेरापूंजी अपनी मॉनसूनी बारिश के लिए दुनिया भर में मशहूर है. चेरांपूजी अपनेआप में ही एक बेहतरीन पर्यटन स्थल है, लेकिन मॉनसून के दौरान इसकी ख़ूबसूरती कुछ ज़्यादा ही बढ़ जाती है. ऐसा लगता है कि प्रकृति ने मॉनसून  में चेरापूंजी को अपना घर बना लिया है. इसलिए अगर आप इस मॉनसून कहीं घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो चेरापूंजी आपके लिए एक बेहतरीन जगह साबित हो सकती है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 12-16 डिग्री सेंटीग्रेड तक रहता है.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Nohkalikai फॉल्स, Mawsmaiगुफा, Root पुल, Seven Sisters जलप्रपात. इसके अलावा भी यहां पर कई सारे देखने योग्य स्थान हैं.

करने लायक चीज़ें: Root पुल पर चलना, Khasi Hills पर चढ़ने का लुत्फ़ उठा सकते हैं. इसके अलावा Dainthlen के दर्शनीय स्थलों पर भी जा सकते हैं.

पहुंचने का साधन: गुवाहाटी, सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन है, जहां से चेरापूंजी की दूरी 181 किमी है.

5. दार्जिलिंग

दार्जिलिंग अपने चाय बागानों के लिए ख़ासा प्रसिद्ध है. यहां से कंचनजंगा पहाड़ियों का जो दृश्य दिखता है, वो अपने आप में अविश्वसनीय होता है. अगर वास्तव में आप गहराई से दार्जिलिंग की ख़ूबसूरती देखना चाहते हैं, तो मॉनसून से बेहतर कोई और मौसम आपके लिए हो ही नहीं सकता है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 15-20 डिग्री सेन्टीग्रेड.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Batasia Loop, Peace Pagoda, टाइगर हिल, जापानी मन्दिर, Rock Garden.

करने लायक चीज़ें: टाइगर हिल पर घूमना, Tenzing Rock पर चढ़ाई, Mirik झील पर बोटिंग

पहुंचने का साधन: अगर आप हवाई जहाज़ से जाना चाहते हैं,तो आपको बागडोगरा हवाई अड्डे पर जाना होगा. यहां से दार्जिलिंग की दूरी 95 किमी है. रेलवे से जाने के लिए आपको सीधे दार्जिलिंग स्टेशन पर ही उतरना होगा.

6. उदयपुर

उदयपुर, राजस्थान का सबसे ख़ूबसूरत शहर है. राजपूतों की राजधानी रहने की वजह से उदयपुर में कई दर्शनीय कलात्मक भवनों का निर्माण हुआ है. इन कलात्मक भवनों की सुन्दरता बारिश के समय और भी बढ़ जाती है. इसलिए मॉनसून के मौसम में उदयपुर घूमने के लिए एक बेहतरीन विकल्प है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 18-20 डिग्री सेंटीग्रेड.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: City Palace, Pichola झील, मॉनसून महल, फ़तेह सागर झील, गुलाब बाग

देखने और करने लायक चीज़ें: ख़ूबसूरत और रोमांटिक सूर्यास्त देख सकते हैं, केबल कार चला सकते हैं, Bagore-ki-Haveli की सैर कर सकते हैं.

पहुंचने का साधन: उदयपुर के सबसे नज़दीक महाराणा प्रताप हवाई अड्डा है. जिसकी उदयपुर से दूरी मात्र 20 किमी है.उदयपुर ख़ुद रेलवे स्टेशन है, जो भारत के मुख्य शहरों को जोड़ता है.

7. फूलों की घाटी

जिन लोगों को पृथ्वी पर स्वर्ग देखना है, उन्हें इस राष्ट्रीय उद्यान को देखने ज़रूर जाना चाहिए. इस घाटी में तरह-तरह के फूल हैं. इन फूलों को देखना अपने-आप में एक अद्भुत एहसास होता है, जिसे शब्दों में नहीं बयां किया जा सकता है. बारिश के मौसम में, तो ये फूल जादू जैसा असर करते हैं.

मॉनसून के दौरान तापमान: 10 से 15 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: हेमकुंड साहिब, घनगरिया, नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान.

करने लायक चीज़ें: घाटी के चारों तरफ़ घूमना, वन्यजीवों को देखना, चढ़ाई, कैम्पिंग आदि.

पहुंचने का साधन: Jolly Grant Airport, से इस घाटी की दूरी 295 किमी है. जबकि ऋषिकेश यहां से सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है, जहां से ये घाटी 276 किमी दूर पड़ती है.

8. धर्मशाला

धर्मशाला में वो सब है, जो एक इंसान चाहता है. सुन्दर और शांत जगह, ख़ूबसूरत पहाड़ियां और ठंडी हवाएं. ये सब मिल कर धर्मशाला को एक बेहतरीन पर्यटन स्थल बनाते हैं. यहां पर बौद्ध मठ और दलाई लामा भी रहते हैं, जिनसे इस जगह की ख़ूबसूरती और शांति दोनों बढ़ जाती हैं. इन सारी चीज़ों से प्रभावित हो कर पर्यटक हमेशा यहां पर आते रहते हैं.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन18 से 20 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच रहता है. आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: HPCA स्टेडियम, Tibetan म्यूज़ियम, कालचक्र मन्दिर, कांगरा घाटी.

करने लायक चीज़ें: Paragliding, धर्मकोट घूमना, पर्यटन स्थलों को देखना, लाहेश गुफा के पास कैम्प लगाना.

पहुंचने का साधन: Gaggal हवाई अड्डा से धर्मशाला की दूरी13 किमी है. जबकि रेल से जाने वालों को पठानकोट जाना पड़ेगा, जो धर्मशाला से सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है. वहां से धर्मशाला 87 किमी दूर है.

9. मनाली

मनाली एक ऐसी जगह है, जहां जा कर लोग कभी नहीं थकते हैं. दिल्ली, आगरा और चंडीगढ़ से नज़दीक होने का भी फ़ायदा मनाली को मिलता है, जिसकी वजह से लोग अकसर घूमने के लिए मनाली जाते हैं. हनीमून मनाने के लिए सबसे प्रसिद्ध जगह मनाली,हिमाचल प्रदेश के सबसे ख़ूबसूरत शहरों में से एक है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 13 से 17 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: जोगिनी फाल्स, हिडिम्बा देवी मन्दिर, रोहतांग पास, सोलांग घाटी.

करने लायक चीज़ें: पर्यटन स्थलों को देखना, सोलांग घाटी में पैराग्लांइडिंग और रॉफ़्टिंग, रोहतांग पास पर बाइक चलाना.

पहुंचने का साधन: Bhuntar एयरपोर्ट से मनाली की दूरी 50किमी है. इसके अलावा दिल्ली, आगरा जैसे शहरों से लोग निजी बसों में भी आ सकते हैं.

10. रानीखेत

जमीन से लगभग 6000 की ऊंचाई पर स्थित रानीखेत, मॉनसून के दौरान पर्यटन के लिए सबसे बेहतरीन जगह है.रानीखेत में देवदार के पेड़, ख़ूबसूरत घाटियां, घने जंगल और रोमांटिक दृश्य मिल कर इसे अद्भुत पर्यटन स्थल बनाते हैं.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 5 से 20 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच रहता है.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: गोल्फ़ मैदान, झूला देवी मन्दिर, Chaubatia Orchards, Mankameshwar मन्दिर,भालू बांध आदि.

करने लायक चीज़ें: भालू बांध के पास मछली पकड़ना, नौकुचिया ताल में Paragliding.

पहुंचने का साधन: अगर आप हवाई जहाज़ से जा रहे हैं, तो आपको पहले पंतनगर हवाई अड्डे पर जाना पड़ेगा, जहां से रानीखेत की दूरी 110 किमी है. रेलयात्रियों को काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर उतरना पड़ेगा. काठगोदाम से रानीखेत की दूरी 75 किमी है.

11. तवांग

अरूणाचल प्रदेश में स्थित तवांग, सबसे असमान्य Hill Station के रूप में जाना जाता है. ट्रेकर्स और रोमांच के शौक़ीन लोगों के लिए तवांग स्वर्ग के समान है. लम्बी पैदल यात्रा और स्कीइंग के लिए भी तवांग के मशहूर है. अगर आप इस मानसून में रोमांच का लुत्फ़ उठाना चाहते हैं, तो तवांग आपके लिए एक बेहतरीन जगह है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 15 से 20 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: तवांग युद्ध स्मारक, Bap Teng Kang, तवांग मठ, सेला पास आदि.

करने लायक चीज़ें: बुमला पास का टूर, Pangang Teng Tso झील में स्कीइंग, Bhajagang झील में Bird Watching.

पहुंचने का साधन: तेज़पुर हवाई अड्डे से तवांग की दूरी 143किमी है. तेज़पुर ही तवांग से सबसे नज़दीक रेलवे स्टेशन भी है.

12. मालशेज घाट

मॉनसून में घूमने के लिए मालशेज घाट सबसे नज़दीकी जगह है. मालशेज घाट से झरनों की ख़ूबसूरती देखने लायक होती है. अगर आपको शांत और ख़ूबसूरत जगह को देखने का शौक़ हो, तो महाराष्ट्र में आ सकते हैं. यहां पुणे से थोड़ी ही दूरी पर ये ख़ूबसूरत जगह है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 20 से 25 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच रहता है.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Pimpalgaon Joga बांध,मालशेज झरना, हरिश्चन्द्रगढ़ किला, अजूबा पहाड़ी किला.

करने लायक चीज़ें: अजूबा किले की पहाड़ियों पर चलना, Pimpalgaon Joga बांध पर चिड़ियों को देखना,हरिश्चन्द्रगढ़ किले में घूमना.

पहुंचने का साधन: आप हवाई जहाज़ से मालशेज घाट जाना चाहे, तो आपको पुणे हवाई अड्डे पर उतरना होगा, जहां से मालशेज की दूरी 115 किमी है. जबकि कल्याण सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है, जहां से मालशेज की दूरी महज 85 किमी है.

13. लद्दाख

जिन्हें ख़तरनाक सड़कों पर यात्रा करने का शौक़ हो, उन्हें एक बार लद्दाख ज़रूर जाना चाहिए. खुरदरा परिदृश्य, बर्फ़ से ढकी पहाडियां और ख़तरनाक तरीके से बनाई गई सड़कें लद्दाख की ख़ूबसूरती हैं. यहां की सड़कों पर बाइक चलाने का अपना ही एक अलग मज़ा है.

मॉनसून के दौरान तापमान: 10-20 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच रहता है.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Thikse मठ, Pangong Tso झील, Khardungla पास, नूब्रा घाटी, Lamayuru मठ.

करने लायक चीज़ें: राष्ट्रीय उद्यान में बर्फ़ वाले तेंदुए को देखना, Hunder में ऊंट की सवारी का आनंद लेना औरKhardungla मार्ग पर ड्राइव करना.

पहुंचने का साधन: मनाली-लेह मार्ग से लद्दाख जाने का रास्ता सबसे आसान है और जिनको पैसों की दिक्कत न हो,वो श्रीनगर से टैक्सी या जीप किराये पर कर सकते हैं.

14. शिलांग

शिलांग, जिसे पूर्व का स्कॉटलैंड भी कहा जाता है, मानसून में घूमने के लिए उत्तर:पूर्व की सबसे बेहतरीन जगह है. बारिश की रिमझिम बूंदों के साथ ख़ूबसूरत बगीचे, लम्बी रोमांचकारी पैदल सफ़र, शिलांग की ट्रिप को और भी बेहतरीन बना देता है. पहाड़ियों और झरनों के ख़ूबसूरत नज़ारों को देखने के लिए इस मानसून में शिलांग जाना तो बनता है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 12 से लेकर 15 डिग्री सेंटीग्रेड.

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Mawlynnong, हाथी जलप्रपात,शिलांग शिखर, Umiam झील, Don Bosco संग्रहालय.

करने लायक चीज़ें: David Scott Trail पर चढ़ना, हाथी जलप्रपात को देखना, Krem Mawmluh गुफा को देखना.

पहुंचने का साधन: Umroi स्थित शिलांग एयरपोर्ट से इस ख़ूबसूरत जगह की दूरी 40 किमी है. गुवाहाटी यहां से सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है, जो 107 किमी की दूरी पर है.

15. चम्बा

हिमाचल प्रदेश के उत्तर-पश्चिम में स्थित चम्बा अपनी शांति और सुन्दरता के लिए मशहूर है. जम्मू-कश्मीर, लद्दाख,बड़ा-बंगाल और कांगड़ा जैसे बेहतरीन पर्यटन स्थलों से घिरे चम्बा की ख़ूबसूरती, मानसूनी मौसम में देखने योग्य रहती है.

मॉनसून के दौरान तापमान: औसतन 15 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच

आकर्षण के प्रमुख केन्द्र: Khajjiar झील, Kalatop वन्यजीव अभयारण्य, भूरी सिंह संग्रहालय, Chamera बांध,चामुण्डा माता का मंदिर, मणिमहेश झील.

करने लायक चीज़ें: पुराने शीतला पुल पर ड्राइव, Chaugan में शॉपिंग, रंग महल देखना.

पहुंचने का साधन: हवाई रास्ते से आने वाले लोग पठानकोट हवाई अड्डे पर उतर सकते हैं, जहां से चम्बा की दूरी 120 किमी है. यहां से सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन भी पठानकोट ही है.

अगर आप भी मॉनसून का पूरा मज़ा लेना चाहते हैं, तो सोचिए मत, सामान पैक कीजिए और निकल जाइए इन 15 ख़ूबसूरत जगहों में से अपनी पसंदीदा जगह पर Enjoy करने के लिए.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.