भारतीयों के लिए दिवाली एक सिर्फ एक त्योहार नहीं होता बल्कि एक उत्सव होता है। इस के लिए पहले से ही तैयारियां होनी शुरू हो जाती हैं और दीवाली वाले दिन तो ऐसा लगता है मानो सच में राम हर घर में बरसों बाद दर्शन करने आ रहे हैं।

वहीं, अगर बात की जाए जयपुर की तो यहां की दिवाली की तो चर्चा हमेशा ही लोगों की जुबान पर रहती है। जयपुर में दिवाली वाले दिन अलग ही नजारा देखने को मिलता है। जिसे देख पर्यटक भी सराहना करने से अपने आप को नहीं रोक पाते। दिवाली के इस खास मौके पर हम जयपुर की कुछ खास 10 जगहों के बारे में बताएगें जहां पर जाने से आपकी दिवाली की खुशियां और बढ़ जाएगी।

Navodayatimesजहोरी बाजार

जहोरी बाजार को आभूषण का बाजार भी कहा जाता है। यह पर सबसे ज्यादा भीङ धनतेरस वाले दिन देखने को मिलती है। इस दिन वह स्थित लोगों के घर औऱ दुकानों की सजावट देखते ही बनती हैं। जहोरी बाजार को दिवाली वाले दिन बहुत ही सुंदर तरीके से सजाया जाता है। जो सभी लोगों और पर्य़टकों का मन भा लेती हैं। इस सजावट में लाइट, फूल आदि का इस्तेमाल किया जाता हैं।

Navodayatimesनाहरगढ किला

इस तस्वीर को देखकर ही  इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि दिवाली वाले दिन नाहरगढ दुर्ग कितना सुंदर लगता होगा। दिवाली वाले दिन लोग इसलिए यह आते हैं ताकि वह देख सकें कि आखिर पूरी जयपुर किस तरह से पीली चादर ओढे हुए है। यानि दिवाली वाले दिन कितनी सुंदर लग रही है । नाहरगढ दुर्ग इस दिन इसलिए खास मना जाता है ताकि यह से पूरे जयपुर के  नजरे को देखा जा सके।

Navodayatimesजल महल-  

जल महल जितना सुबह सुंदर लगता है उतना ही रात को सुंदर लगता है। लेकिन सबसे ज्यादा इसकी शान दिवाली वाले दिन देखने को मिलती है। मान सागर झिल पर पङती लाइट की रोशनी इस  पर चढी कोई सोने की परत की तरह दिखती है। जिसकी वजह से ही जल महल और भी बेहतरीन लगने लगता है।

Navodayatimesचौङा रास्ता-

चौङा रास्ता जयपुर की दीवारों शहर क्षेत्र में स्थित है। जहां की सजावट उसकी खूबसूराती को और बढाती है। इस जगह को उसकी सजावट के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता है। पारंपरिक संरचनाए, सैकङों पेङ इस स्थान की विशेषता है।

Navodayatimesवल्ड ट्रैड पार्क-

पिंक सिटी औऱ बिजनेस जगत की सबसे ज्यादा प्रसिद्ध जगह वल्ड ट्रैड पार्क दिवाली के मौके पर कुछ अलग ही अंदाज में देखने को मिलती  है। इसकी पूरी इमारत पर अलग – अलग तरह की लाइटों की रोशनी की आकृति दिखाई देती हैं। जो कि इस पार्क को सुंदर और लोगों के आर्कषित करने का काम करती है ।

Navodayatimesआक्षरधाम मंदिर-

जयपुर में आक्षरधाम मंदिर को छोट वृंदावन मंदिर कहा जाता है। जिस तरह से दिवाली वाले दिन इस मंदिर को सजाया जाता है, शायद ही जयपुर में किसी और मंदिर को ऐसा सजाया जाता होगा। इस दिन भक्तों की काफी भीङ यहां पर लगती हैं और अगर आप भी कभी दिवाली वाले समय जयपुर जाते है तो यहां जाना न भुले।

Navodayatimesगौरव टावर-
गौरव टावर में दिवाली वाले दिन इतनी भीङ लगी होती है कि पूछिए मत क्योंकि यहां पर सभी लोग दिवाली की शोपिंग करने आते है। यहां पर आप को दिवाली के लिए कपङे, लाइट, मिठाई सब चीजे खरीदने के लिए मिल जाएगी।

Navodayatimesएमआई रोङ-

मिर्जा  इस्मिल रोङ को एमआई रोङ के नाम से जान जाता है। जो की सांगानेरी रोङ से सरकारी हॉस्टल तक जाती हैं।  यह रोङ सही मनाये में दिवाली की असली मतलब समझती है इसकी सजावट इस पिंक सिटी का एक बेहतरीन और खूबसूरत हिस्सा बनाने में मदद करती हैं।

Navodayatimesनेहरु और बापु बाजार-

यह बाजार सबसे ज्यादा यह मिलने वाले कपङों की वजह से मशहूर है। इसके अलावा आपको यहां से बने बनाए जूते, घर की सजावट का समान आसानी से मिल सकता हैं। लेकिन दिवाली वाले दिन यह काफी भीङ देखने को मिलती हैं।

Navodayatimesटोंक रोङ-

इस जगह पर की गई सजावट बाकि जगह की सजावट से बिलकुल अलग है क्योंकि यह पर आर्किटेक्चर डिजाइन बिलडिंग दिखने में ही नहीं बल्कि इसके वाइब्रेट रंग भी इसको और खास बनाते है।

वैसे देखा जाए भारत की राजधानी दिल्ली जयपुर से ज्यादा दूर नहीं हैं। तो ऐसे में क्यों ना आप अपने व्यस्त समय में से कुछ समय इस दिवाली जयपुर में घूमने के लिए निकले।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.